हमारे बारे में

Shree Bhavnagar Panjrapole

वैसे तो सभी पशु पक्षियो की सेवा उत्तम है परन्तु गायमाता की सेवा सर्व श्रेष्ठ शाश्त्रो में कही गई है। लगभग २७५ वर्ष पहले उस वख्त के महाराजा जी के सहयोग से हमारे बुजुर्गो ने भावनगर में समृधिवाला गाँव और कुम्भारवडा में गाय की सेवा के लिए पांजरापोल का निर्माण किया था और लगभग 1000 एकर जमीन की खरीदी की थी। तब से अब तक सेकंडों ट्रस्टी मिलकर अब तक जिम्मेदारी निभाये आ रहे है। इसवक्त यह समय में लगभग 300 -500 गाय ,बैल और गोवंश को पाला जा रहा हैं। जिस में लगभग 1 लाखरूपये रोजचारा लेना पडता है। आज के इस महामारी के समय में दान का प्रवाह कम हो गया हैं। वैसे तो हमारी कोशिश गाय को भरपेट भोजन देने की रहती है उसके लिए कईबार क़र्ज़ भी लेना पडता हैं।

इन सारी मुश्केलियो के निराकरण के लिए सर्व ट्रस्टी मंडल ने एक दीर्घकालीन योजना तैयार की है। जिस से भविष्य मे कोई मुश्केली ना आए। जिसमे अपने पास 1000 एकर जमीन को डेवलप करने का निर्णय किया गया है। जिसके अंतगर्त खेती ,पत्थरवाली जमीन पर औषधि ,फलो के वन (400 एकर )लगाए जाए। जिसके लिए land fancing ,check dams ,water bodies कुवो का recharging वगेरे करना है।

भविष्य मे अपने औषधि से शुद्ध सात्विक organic दवा का उत्पादन ,जड़ीबूटी एवं पक्षियों को फल ,आश्रय एवं दवा के रूप में जड़ीबूटी दे सके। इसके साथ लुप्त हो रही वनस्पतिओं का संरक्षण हो सके ऐसा वातावरण बनाना चाहिए।

इन सब कार्यो के लिए दीर्घकालीन योजना की ज़रूरत है। जिसमे एक बड़ी investment ज़रूरत है। लेकिन हम किसी पर भी बड़ा बोझ नहीं डालना चाहते ,इसके साथ सभी एक श्रेष्ठ सेवा में पुण्य कमाने का अवसर मिले और वृद्ध -२ से सागर वती इसके लिए हम आपके सभी के श्रीचरणों में एक योजना को लेकर आये हैं,जिसमे हमें कम से कम 1000 परिवार से जुड़े ऐसी हमारी भगवान को प्रार्थना है।

आपके परिवार में सभी जन्मदिन ,शादी की वर्षगाँठ के साथ अपने परिवार के प्रियजनों की यद् में उन की पुण्यतिथि पर थोड़ा आर्थिक सहयोग करें।

आपका सहयोग मिलेगा ही ऐसी आशा हैं। इसी आशा के साथ हमारी योजना 10 -15 हज़ार गोवंश के चलने की हैताकि कभी गायमाता कत्तलखाने में न जाए।

  • गौ प्रेमी Rs.100
  • गौ रक्षक Rs.500
  • गौ पालक Rs.1,100
  • गौ संगरक्षक Rs.5,100
  • गौ संवर्धक Rs.11,000

Search Result Found For: "Lifeline Team"

Lifeline team helped the norcotics addicts to recover in Asia

Donec et libero quis erat commodo suscipit. Mae elit a, eleifend leo. Phase llus ut pharetra mictor diam. id Suus arciet spendisse rhoncus id arcet porta. Aenean blandit mi ipsum, ut pharetrns vesti bulum ornare.Lorie ipsum dolor st amet, cons ctetur adipiscing elit. Duis non sceler isque est, quis aliquam ligula.Aenean blamp esum.